14 खरीफ फसलों की एमएसपी में बढ़ोतरी: यूनियन कैबिनेट ने किसानों को दी बड़ी सौगात

Spread the love

कृषि क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में यूनियन कैबिनेट ने 14 खरीफ फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी को स्वीकृति दी है। केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया कि यह निर्णय कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी) की सिफारिशों के आधार पर लिया गया है। इस निर्णय से विपणन सत्र 2024-25 के लिए सभी आवश्यक खरीफ फसलों के एमएसपी में वृद्धि को स्वीकृति मिली है।

खरीफ फसलों की एमएसपी में बढ़ोतरी

एमएसपी में बढ़ोतरी: किसानों के लिए एक बड़ा कदम

केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कैबिनेट की बैठक में लिए गए इस महत्वपूर्ण निर्णय को साझा करते हुए कहा, “कैबिनेट में कुछ बहुत महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुए हैं। किसानों के कल्याण के लिए यह एक बहुत महत्वपूर्ण निर्णय है। खरीफ मौसम शुरू हो रहा है, और उसके लिए कैबिनेट ने 14 फसलों पर एमएसपी को मंजूरी दी है।”


WhatsApp Group


Join Now

Telegram Channel


Join Now

नए एमएसपी दरें और वृद्धि की जानकारी

इस वर्ष एमएसपी में सबसे अधिक वृद्धि तिलहन और दालों के लिए हुई है। तिलहन के लिए नाइजरसीड का एमएसपी 983 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है, जबकि तिल का एमएसपी 632 रुपये प्रति क्विंटल और तुअर/अरहर का एमएसपी 550 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ा है। वहीं कपास (मीडियम स्टेपल) का एमएसपी 7121 रुपये कर दिया गया है।

विभिन्न फसलों की एमएसपी दरें

नीचे दी गई तालिका में विपणन सत्र 2024-25 के लिए सभी खरीफ फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य (रुपये प्रति क्विंटल) की जानकारी दी गई है:

फसलMSP 2024-25 (₹/क्विंटल)लागत (KMS 2024-25)*लागत पर मार्जिन (%)MSP 2023-24वृद्धि (₹/क्विंटल)
धान (सामान्य)23001533502183117
धान (ग्रेड ए)23202203117
जवार (हाइब्रिड)33712247503180191
जवार (मालदंडी)34213225196
बाजरा26251485772500125
रागी42902860503846444
मक्का22251447542090135
तुअर / अरहर75504761597000550
मूंग86825788508558124
उड़द74004883526950450
मूंगफली67834522506377406
सूरजमुखी के बीज72804853506760520
सोयाबीन (पीला)48923261504600292
तिल92676178508635632
नाइजरसीड87175811507734983
कपास (मीडियम स्टेपल)71214747506620501
कपास (लॉन्ग स्टेपल)75217020501

मानसून से पहले सरकार का बड़ा फैसला

खरीफ फसलों का भारतीय कृषि और किसानों की आय में महत्वपूर्ण योगदान है। खरीफ की फसलें भारत में मानसून के दौरान बोई जाती हैं, जो जून से सितंबर तक होती हैं। मुख्य खरीफ फसलें धान, मक्का, बाजरा, सोयाबीन, मूंगफली और कपास हैं। खरीफ फसलों की बुवाई का समय जून से जुलाई और कटाई का समय सितंबर से अक्टूबर होता है। सही समय पर बुवाई और उचित देखभाल से इन फसलों की पैदावार अच्छी होती है।

किसानों के लिए एमएसपी का महत्व

एमएसपी वह कीमत है जिस पर सरकार किसानों से उनकी फसलों की खरीद करती है। यह मूल्य फसल उत्पादन की लागत को ध्यान में रखते हुए तय किया जाता है। एमएसपी किसानों को उनकी फसल का एक निश्चित मूल्य देने का वादा करता है जिससे उनकी मेहनत का उचित मुआवजा मिल सके। एमएसपी किसानों को बाजार में संभावित नुकसान से भी सुरक्षा प्रदान करता है।

PM Kisan 17th Installment: 18 June को जारी, देखें संपूर्ण जानकारी

https://pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=2026763

सरकार की यह पहल किसानों के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

यह निर्णय न केवल किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य दिलाने में सहायक है बल्कि इससे उनकी आय में भी वृद्धि होगी। किसानों की आर्थिक स्थिति को सुधारने और कृषि क्षेत्र को मजबूत करने के उद्देश्य से यह निर्णय लिया गया है। इससे किसानों को उनकी मेहनत का सही मुआवजा मिलेगा और वे अपनी अगली फसलों के लिए बेहतर तैयारी कर सकेंगे।

FAQs

2024-25 का समर्थन मूल्य क्या रहेगा?

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 2024-25 के लिए धान का न्यूनतमसमर्थन मूल्य ₹2300 किया है. इस बार धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 5% की बढ़ोतरी की गई है.

Leave a Comment